राष्ट्र से प्रेम करें युवा, अपने क्षेत्र को बेहतर बनाएं: उदय प्रताप सिंह

न्यूज़ ऑफ इंडिया ( न्यूज एजेंसी) उदय प्रताप सिंह सुप्रसिद्ध कवि हैं। वह शिक्षक भी रहें है, कई स्कूलों में प्रिंसिपल के तौर उन्होंने अपनी सेवाएं दी हैं। इसके अलावा…

0Shares

कलेक्टर साब! झुमका यूँ ही नहीं गिरा था, बरेली के बाज़ार में….

संगम नगरी में गंगा और जमुना का ऐसा मिलन हुआ कि पंजाब का पंचनद इलाहाबाद में नया संगम बनाने लगीं. तेजी और हरिवंश का प्रेम परवान चढ़ने लगा. दोनों के…

0Shares

पुस्तक समीक्षा : तस्मै श्री गुरवे नमः ‘इतिहास हुआ एक अध्यापक’

                                            –डॉ.सुषमा देवी विवेच्य ग्रंथ ‘इतिहास हुआ एक अध्यापक’ के ग्रंथनायक डॉ. प्रेमचंद्र…

0Shares

उमंग : आज शिशिर जी का जन्मदिवस है..

इनके सामने कोई भी पत्रकार अपनी समस्या लेकर गया, खासतौर पर छोटे और मझोले प्रकाशनों से जुड़े, तो उन्होंने अपनी सामर्थ्य भर मदद की. आप के समय में ही पत्रकारों…

0Shares

पुस्तक समीक्षा : शोध छात्रों का मार्गदर्शन करेगी दलित आन्दोलन और बांग्ला

साहित्य- राजीव कुमार ओझा सादगी की प्रतिमूर्ति महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिन्दी विश्वविद्यालय वर्धा के पत्रकारिता एवं‌ जन संचार विभाग के विभागाध्यक्ष डा.कृपाशंकर चौबे की नवीनतम कृति दलित पुस्तक समीक्षा शोध…

0Shares

टूल्‍स एण्‍ड टेक्निक्स इन बायोलॉजी का हुआ विमोचन

डॉ. अश्‍वनी कुमार दुबे द्वारा लिखित पुस्‍तक ”टूल्‍स एण्‍ड टेक्निक्स इन बायोलॉजी” का हुआ विमोचन भारतीय शिक्षण मण्‍डल महाकौशल प्रांत एवं श्री कृष्‍णा विश्‍वविद्यालय, छतरपुर के संयुक्‍त तत्‍वधान में राष्‍ट्रीय…

0Shares

तुम्हे न अपना वत़न मिलेगा..

अपना वतन —————– तो एक गाँधी था मुल्क में जो उठा के लाठी चला था लड़ने बमों से फाँसी मशीनगन से ब्रीतानी-चालाकियों के फ़न से वो एक लाठी जिसे सहारा…

0Shares

केदारनाथ सिंह स्मृति सम्मान 2021 के लिए रचनाएं/नाम आमंत्रित

हिंदी की साहित्यिक पत्रिका ‘साखी’ ने कवि केदारनाथ सिंह की याद में वर्ष 2021 से दो युवा कवियों को हर साल ‘केदारनाथ सिंह स्मृति सम्मान’ देने का निर्णय लिया है।…

0Shares

ऋषभदेव शर्मा की तीन पुस्तकों का हुआ लोकार्पण

लोकार्पण- दक्षिण भारत हिंदी प्रचार सभा, हैदराबाद में आयोजित त्रिदिवसीय राष्ट्रीय साहित्यिक परिसंवाद के उद्घाटन सत्र में 5 अगस्त, 2021 को श्री लाल बहादुर शास्त्री राष्ट्रीय संस्कृत विश्वविद्यालय, दिल्ली के…

0Shares

शिक्षा से ही विश्वगुरु बन सकता है भारत : प्रो. रमेश कुमार पांडेय

नई शिक्षा नीति भारत के भविष्य के लिए दस्तावेज : प्रो. राममोहन पाठक दक्षिण भारत हिंदी प्रचार सभा में त्रिदिवसीय राष्ट्रीय परिसंवाद : ‘गांधी दर्शन के आलोक में राष्ट्रीय शिक्षा…

0Shares
हिंदी »