• Sun. Jan 17th, 2021

Differentiator

  • Home
  • ओह, सुशासन! आह, विकास! तेरा यूं भरभरकर गिर जाना..

ओह, सुशासन! आह, विकास! तेरा यूं भरभरकर गिर जाना..

बिहार में गोपालगंज-चंपारण जिले की सीमा पर 263.48 करोड़ रु. की लागत से बने इस पुल का उद्घाटन बीते 16 जून को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने किया. इसके बड़े फायदे…

पुण्यतिथि विशेष : जीने के लिए जो जज्ब़ा चाहिए वह दाढ़ी के पास था..!

–चंचल चंद्रशेखर को याद करते हुए  बलिया से उठा , बलन्दी छू गया । ठेठ ,खुद्दार ,गंवई अक्स, खादी की सादगी में मुस्कुराता चेहरा ,अब नही दिखेगा न सियासत में…

साहिब के जुदाई में बौराइये नहीं, अभी सफ़र लम्बा है…. कल और आएंगे नग़मों की खिलती कलियाँ चुनने वाले, मुझसे बेहतर कहने वाले, तुमसे बेहतर सुनने वाले ।

–अभिषेक सिंह नीरज गुप्त सूत्रों के हवाले से….. बेसिक शिक्षाधिकारी आजमगढ़ अब हमारे बीच नहीं रहे।शासन से मंडलायुक्त ने निलंबन की संस्तुति की थी जिसपे शासन ने गंभीरता दिखाते हुए…

गांधी को लेकर हमारे समय का सबसे शानदार बहस का मंच बना आजमगढ़ का नेहरूहाल,हुआ शार्प रिपोर्टर के गांधी विशेषांक का लोकार्पण

आजमगढ़। आजमगढ़ जर्नलिस्ट फेडरेशन द्वारा महात्मा गांधी के 150वीं जयंती वर्ष पर एक राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन नेहरू हाल के सभागार में किया गया। गोष्ठी का विषय महात्मा गांधी और…

पाक ने पीएम मोदी के विमान के लिए नहीं दिया एयरस्पेस तो भारत ने उठाया ये कदम

भारत ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की उड़ान के लिए अपने हवाई क्षेत्र के इस्तेमाल की सुविधा देने से पाकिस्तान के इनकार का मुद्दा अंतरराष्ट्रीय नागर विमानन संगठन के समक्ष उठाया…

भारत भारती से नवाजी गयीं ऊषा किरन खान

–चंद्रशेखर ऊषा किरन खान मैथिली और हिन्दी की लोकप्रिय व महत्वपूर्ण कथाकार पद्मश्री डॉ.उषा किरण खान कोई तीन साल पहले लखनऊ में हिंदी संस्थान के एक सम्मान समारोह में शामिल…

कुलपति क्या होता है ?

एक केंद्रीय मंत्री बंगाल के प्रतिष्ठित विश्वविद्यालय जादवपुर के कुलपति से पूछता है – हम केंद्रीय मंत्री हैं, अगवानी में क्यों नही आये ? छात्रों को नागवार गुजरा और उन्होंने…

हमारे समय में प्रशासक बनाम प्रशासक!

रमेश कुमार —————————— 8 नवांकुरों का हिंदी दिवस पर सम्मान, वह भी जनपद की विरासत के नाम पर। गजब बात यह कि पांच पांच हजार का चेक लोकप्रिय जिलाधिकारी ने…

गणेशशंकर विद्यार्थी का जेल जीवन

जेल जाने के पहले जेल के संबंध में हृदय में नाना प्रकार के विचार काम करते थे। जेल में क्‍या बीतती है, यह जानने के लिए बड़ी उत्‍सुकता थी। कई…

कौशलेंद्र के पार्थिव शरीर को अग्नि के हवाले करके आया हूँ…

-पंकज चतुर्वेदी अभी कौशलेंद्र के पार्थिव शरीर को अग्नि के हवाले करके आया। दुनिया से बेखबर चादरों से ढँकी रस्सियों से जकड़ा शरीर। मगज बह कर नाक से बहने लगा…

हिंदी »