वाघा बॉर्डर की आँखों देखी : लब्ज़ और लिबास तो बदला-बदला अमृतसर में दिखा पर अर्थ में काशी के कबीर मिले

– विनोद कुमार लब्ज़ और लिबास तो बदला-बदला अमृतसर में दिखा पर अर्थ में काशी के कबीर मिले, वह भी उस स्वर्णमंदिर में जहां मूर्ति नहीं गुरु की पूजा करती…

0Shares

क्या स्लीपर वाले इंसान नहीं होते…?

#सफर -कुलीना कुमारी बढ़ती महंगाई को देखते हुए व बचत करने के ख्याल से इस बार छोटे भाई की शादी में अपना गांव बिहार जाने के लिए मैंने स्लीपर से…

0Shares
हिंदी »