पहल : योगी सरकार यूपी के 75 जनपदों का इतिहास लेखन कराएगी..

० स्वतंत्रता संग्राम और उसके बाद के नायकों, गुमनाम नायकों की तलाश की जाएगी. ० यूपी के 75 जनपदों का लिखा जाएगा इतिहास ० आजमगढ़ में आज पहली बैठक संपन्न…

0Shares

कलेक्टर साब! झुमका यूँ ही नहीं गिरा था, बरेली के बाज़ार में….

संगम नगरी में गंगा और जमुना का ऐसा मिलन हुआ कि पंजाब का पंचनद इलाहाबाद में नया संगम बनाने लगीं. तेजी और हरिवंश का प्रेम परवान चढ़ने लगा. दोनों के…

0Shares

मुद्दा : जब बंदी को ही अपने बंधनों से प्रेम हो तो कोई क्या कर सकता है?

०हिजाब का सवाल … हिजाब या बुरक़े के प्रश्न पर एक वृहत्तर परिप्रेक्ष्य में बात की जानी चाहिए। मिसाल के तौर पर, अगर आपका सामना किसी हिजाब पहनने वाली स्त्री…

0Shares

जयंती पर विशेष : समाजवादी विचार-यात्रा के विलक्षण पथिक:विवेकानंद

  भारत की आत्मा से साक्षात्कार करने वाले इस युवा संत ने एक बार कहा था कि ‘मैं जो देकर जा रहा हूं वह हजार सालों की खुराक है ,लेकिन…

0Shares

जिन्हें पप्पू और पिंकी समझने की भूल कर रहे हैं !

#पप्पू_पिंकी पप्पू और पिंकी दो नाम जो हर दूसरे तीसरे घर में बच्चों के बुलाए जाने वाले नाम हैं. पप्पू भईया, पिंकी दीदी, पप्पू चाचा पिंकी बुआ, रिश्ते चाहे जितने…

0Shares

गजलों के जादूगर जगजीत सिंह का आज जन्मदिवस है

जगजीत सिंह को उनकी आवाज और गजलों के लिए आज भी याद किया जाता है. अपने जीवन में उन्होंने जो गजलें और गीत गाए हैं, उनको सुनकर मन को एक…

0Shares

यह किसान अपने संसाधनों से एक नया मुल्क, मानो दिल्ली की सड़कों पर बसा लिया है..?

सामयिक: @चंचल   दुनिया का यह पहला जन आंदोलन है , जो इतनी बड़ी तादात में , इतने धैर्य के साथ अहिंसक और शांत मन से अपनी बात पर अडिग…

0Shares

पहल : दुनिया भर में फैले आजमियों! आजमगढ़ पर विशेषांक निकल रहा है..!

० आजमगढ़ को जानने की कोशिश..! आजमगढ़ की माटी से चलकर देश और दुनिया भर में अपने प्रतिभा का झंडा गाडे़ आजमियों, आज़मगढ़ से प्रत्यक्ष और परोक्ष जुड़े और इसके…

0Shares

मैं कहता आंखिन देखा : कुछ ना होता तो ख़ुदा होता..

. @ सुशोभित गुलज़ार हमेशा सफ़ेद कुर्ता पहनते हैं! उजली कपास का शफ़्फ़ाक लिबास। किसी को याद नहीं आता, उसने गुलज़ार को कभी किसी और पहनावे में देखा हो। जवानी…

0Shares

कोरोना ने मेरे सबसे अज़ीज़ दोस्तों में एक अरविंद ओझा को भी छीन लिया।

सुबह-सुबह बुरी ख़बर।– ओम थानवी प्यार से मैं और अन्य करीबी मित्र उन्हें गुरुजी कहते थे। बीकानेर में संजय घोष और अरविंद ओझा ने उरमूल न्यास के माध्यम से सामाजिक…

0Shares
हिंदी »