• Mon. Nov 30th, 2020

Half-population

  • Home
  • एसिड अटैक सरवाइवर कविता बिष्ट की प्रेरणा की कहानी

एसिड अटैक सरवाइवर कविता बिष्ट की प्रेरणा की कहानी

हौंसले के बलबूते कोई इंसान कुछ भी कर सकता है फिर चाहे लाख मुश्किलें उसके आगे खड़ी हों। इसी मिसाल को सही साबित किया है एसिड अटैक विक्टिम कविता बिष्ट…

जब गंदा रहना ही झोपड़पट्टी की लड़कियों के लिए हथियार बन जाए..!

जीवन कई तरह की घटनाओं, परिघटनाओं, प्रतिवादों, प्रतिफलों, संघर्ष, संयोग, साहस औऱ इन सबसे ऊपर अनिश्चितताओं का समुच्चय है. इन सबके बीच से वो निकलता रहता है और कई बार…

नारी सौन्दर्य: साहित्य का नहीं फिल्म और विज्ञापन का विषय है

– गुंजेश्वरी प्रसाद बहुत वर्ष पहले दो बहुचर्चित नायिकाओं ने आपस में बातचीत की। बातचीत करने वाली दोनों नायिकाएं रेखा और शबाना आजमी थीं। पत्रकार के रूप में रेखा ने…

लेफ्टिनेंट जनरल डॉक्टर माधुरी कानिटकर को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं

डॉक्टर श्रीमति माधुरी कानिटकर भारत माता की वो बेटी हैं जिन्हें भारतीय थल सेना में लेफ्टिनेंट जनरल के पद पर पदासीन होने का गौरव प्राप्त हुआ है। यह पद जनरल…

डा० गीता शर्मा बनी आर्यावर्त ब्राह्मण महासभा की महिला प्रदेश अध्यक्ष

आर्यावर्त बाह्मण महासभा के संस्थापक राष्टीय अध्यक्ष पं प्रदीप शुक्ला जी और राष्ट्रीय महासचिव पं राकेश शुक्ला जी के द्वारा डा गीता शर्मा, सुदंरनगर रायपुर को छत्तीसगढ प्रदेश (महिला प्रकोष्ट)प्रदेशाध्यक्ष…

फिल्म शकुंतला देवी : औरत का नाम जैसे-जैसे रोशन होने लगता है परिवार छूटने लगता है !

बच्चे अपनी मां को सिर्फ मां के रूप में देखते हैं, क्या मां एक औरत नहीं ? एक बच्ची अपनी मां से चिढ़ती है क्योंकि वह पितृसत्तात्मक समाज की चुप…

आधी आबादी : तुम्हें रात के अंधेरे में डर नहीं लगता बेटी?

उम्मीद थी राज्य के अधिकारी, मंत्री, प्रधानमंत्री, गृहमंत्री, कोई तो इस लड़की को शब्बाशी देंगे, कोई तो कहेगा “तुम्हें रात के अंधेरे में डर नहीं लगता बेटी?”, कोई तो कहेगा…

हुनरबाज़ : अपने शहर के प्रिया को जानते हैं आप?

यह प्यारी सी नाजुक सी लड़की जिसका नाम प्रिया है, जिसे आप परिश्रम की पराकाष्ठा कह सकते हैं । यह लड़की जब मेरे पास आई तो मैंने पेंटिंग सिखाना बंद…

शख्सियत : क्या आप मिदनापुर के इस महानायिका को जानते हैं? नाम है पूरबी महतो.. जिसने हथियारों का मुख मोड़ दिया..

वह कोई नायिका नहीं है लेकिन किसी नायिका से कम नहीं है.वह देश की राजधानी दिल्ली से दूर पश्चिम बंगाल की नायिका है. जिसके जज्बात और दिलेरी ने हथियार बंद…

जब भी एक स्त्री खुलकर जीती है वह लांछना बन जाती है

स्त्री विमर्श पर न जाने कितनी पुस्तकें पढ़ चुकी होउंगी , लेकिन मृदुला गर्ग मैम को पढ़ना हर बार अचंभित करता है । कठगुलाब और उसके हिस्से की धूप पढ़ने…

हिंदी »