• Sun. Jan 24th, 2021

Self talk

  • Home
  • नानक ने 28 हजार किलोमीटर की पैदल यात्राएं की थीं..

नानक ने 28 हजार किलोमीटर की पैदल यात्राएं की थीं..

पंकज चतुर्वेदी बाबा नानक विश्व की ऐसी विलक्षण हस्ती थे, जिन्होंने दुनिया के धर्मों, निरंकार ईश्वर खोज, जाति-पाति व अंध विश्वास के अंत के इरादे से 24 साल तक दो…

सड़क पर उतरकर सराय इनायत में पिटे पत्रकारों को दिलाउंगी न्याय-रिचा सिंह

सौरभ सिंह सोमवंशी प्रयागराज के सराय इनायत थाने में पुलिस कर्मियों के द्वारा पत्रकारों और एक पत्रकार की 8 माह की गर्भवती पत्नी को पीटे जाने का मामला समाजवादी पार्टी…

नयी शिक्षा नीति के तहत…

आजादी एक ख्याल है ।आइए इस बार अपनी आजादी मनाएं । मुदित मन से । स्वफूर्त उल्लास से । अगली पीढ़ी के मन मे सवाल उठे । उसका उत्तर दीजिये…

सीमा की लकीर तोड़ देना और उन्हें उठा कर अँकवार में भर कर मनमाफिक रो लेना..

–चंचल आगे नेपाल है । हम नेपाल से मोहब्बत करते हैं,जैसे अपने मुल्क भारत से । पाकिस्तान और बांग्ला देश से भी यही रिश्ता है । वजह केवल इंसानी तमीज…

पलायन : त्रासदियां सबसे पहले कमज़ोर-वर्ग का शिकार करती हैं..!

पलायन … मज़दूरों के पलायन पर बहुत बातें कही जा चुकी हैं। जिन्होंने कही हैं, वो स्वयं पलायन नहीं कर रहे थे, और जो कर रहे थे, उन तक वे…

पितृशोक : कर्मयोगी- लौहपुरुष और हठयोगी

कर्मयोगी- लौहपुरुष और हठयोग 11 जनवरी 1909 : भारत के लौह पुरुष कहे जाने वाले सरदार बल्लभ भाई पटेल पेशे से वकील थे। एक बार उनकी पत्नी बहुत ज्यादा बीमार…

विचार मंथन : लॉकडाउन की पत्रकारिता या पत्रकारिता का लॉकडाउन!

प्रदीप कुमार ●●●●●●● तालाबन्दी के दूसरे दौर का 5वाँ दिन । आज भी सुबह नींद जल्दी खुल गई । लेकिन आंखें मींचे बिस्तर पर पड़ा करवटें बदल रहा हूँ ।…

अर्थशास्त्र : क्या मोदी जी इन अर्थशास्त्रियों की बात सुनेंगे?

–लालबहादुर सिंह अर्थशास्त्र की दुनिया में भारतीय मूल के 3 सबसे बड़े नामों- नोबेल पुरस्कृत अमर्त्य सेन व अभिजीत बनर्जी तथा RBI के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने एक संयुक्त…

Lockdown के बाद : बाजारों की रौनक़ घटेगी और मरघटों की बढ़ेगी..?

-Arvind Kumar Singh◆भविष्य का भारत कैसा होगा?◆जहाँ हर इंसान भविष्य की एक लाश बनने के भय में आज जिंदा लाश बन चुका है। ◆कोरोना जैसी वैश्विक महामारी के पांव पसारने…

फणीश्वरनाथ रेणु की कथाओं में जो आंचलिकता की एक आदिम महक होती है

-सीमा संगसार फणीश्वरनाथ रेणु की कथाओं में जो आंचलिकता की एक आदिम महक होती है वह अन्यत्र दुर्लभ है। रेणु जी ने अपनी कथा कहानियों में जिस तरह से गाँव…

हिंदी »