कालचिंतन- भाग-1 : ग़रीबी की रेखा खींचने वाले सिस्टम ने अमीरी की कोई सीमा रेखा नहीं तय की

  हमारे 74 बरस के लोकतंत्र का हासिल बस इतना भर है कि- उड़ीसा में दाना मांझी को अपने पत्नी का शव कंधे पर लेकर सिसकती बेटी के साथ रात…

0Shares

प्रधानसेवक यह भूल रहे हैं कि- यह देश आज भी कृषि और ऋषि प्रधान है!

@ अरविंद सिंह देश के प्रधानसेवक को यह नहीं भूलना चाहिए कि हिंदुस्तान की मूल पहचान-एक कृषिप्रधान देश के रूप में है और इसकी यह पहचान लाखों करोड़ों धरतीपुत्रों, खेती-किसानी…

0Shares

क्या यह भारतीय ‘किसानी’ और ‘मोदीसत्ता’ के बीच सीधी टकराहट है..?

०देश के किसानों का मोदी सरकार के खिलाफ ‘दिल्ली कूच’ @ अरविंद सिंह यह भारतीय लोकतंत्र की रीढ़ किसानों का ‘दिल्ली कूच’ है या इस देश की मौलिक चेतना का…

0Shares

कथा-व्यथा : क्या आज भी हमारे विश्वविद्यालयों में लड़कियों को देखने का नज़रिया वेश्या और रंडी से ऊपर नहीं उठ सका है?.

०बीएचयू की रिसर्च स्कॉलर और लेखिका प्रियंका नारायण की यह आपबीती बहुत खतरनाक संकेत दे रही है ० कैसे यहाँ पढ़ने वाली गर्ल्स स्टूडेंट, स्कॉलर और महिला अध्यापिकाओं के बारें…

0Shares

ऑनलाइन मीडिया पर नकेल की तैयारी..

@ प्रोफेसर ऋषभदेव शर्मा केंद्र सरकार ने ऑनलाइन समाचार पोर्टलों और ऑनलाइन सामग्री प्रदाताओं को सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के तहत लाने से जुड़ा आदेश जारी किया है। अब से…

0Shares

सवाल : अनपढ़ और जाहिलों को हम पढ़े लिखे चुनते रहेंगे और मूर्ख इस महान लोकतंत्र की विधायिका में कानून बनाएंगे

साहित्य और सियासत के बीच समाज कहाँ खड़ा है ? @ अरविंद सिंह यह सवाल कितना गंभीर और मौजूं है कि- हमारी सामाजिक सत्ता पर सियासत जिस प्रकार से हावी…

0Shares

नए कृषि विधेयक से किसान और फुटकर व्यापारी भी उजड़ जायेगा

मोदी जी ! इतिहास ऐसी आत्मघाती गलतियों को माफ नहीं करता! राष्ट्रीय बहस @ विजय नारायण, वरिष्ठ पत्रकार. ख़बरों के पीछे छिपी खबरें अधिक खतरनाक होती हैं। ठीक वैसे ही,…

0Shares

आंकलन : आत्मनिर्भरता के सपने को बेचती आत्ममुग्ध मोदी सरकार !

–अखिलेश अखिल 12 मई 2020 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के नाम संबोधन में 20 लाख करोड़ रुपये के राहत पैकेज की घोषणा की थी तो बहुत से लोगों…

0Shares

भारतीय किसानी में नये कार्पोरेट जमीदार पैदा करने की कोशिश, एक दिन सरकार के लिए ही भस्मासुर साबित होगी..?

@ अरविंद सिंह यह भारतीय किसानी का निजीकरण के बहाने कार्पोरेटे के हवाले करने का विधेयक है या सदियों से मौलिक और भारतीयता की मूलाधार रही किसानी को, उसके मूल…

0Shares

मोदीराज में रोजी रोटी की बात कब होगी? 

@अरविंद सिंह बरस 2014 याद है न! यदि याद नहीं आ रहा है तो याद दिलाना भी जनपक्षीय पत्रकारिता का कर्तव्य है. यूपीए-1के बाद, यूपीए-2 की मदांध सत्ता अपनी शक्ति…

0Shares
हिंदी »