• Mon. Nov 30th, 2020

India News

  • Home
  • नानक ने 28 हजार किलोमीटर की पैदल यात्राएं की थीं..

नानक ने 28 हजार किलोमीटर की पैदल यात्राएं की थीं..

पंकज चतुर्वेदी बाबा नानक विश्व की ऐसी विलक्षण हस्ती थे, जिन्होंने दुनिया के धर्मों, निरंकार ईश्वर खोज, जाति-पाति व अंध विश्वास के अंत के इरादे से 24 साल तक दो…

कथा-व्यथा : क्या आज भी हमारे विश्वविद्यालयों में लड़कियों को देखने का नज़रिया वेश्या और रंडी से ऊपर नहीं उठ सका है?.

०बीएचयू की रिसर्च स्कॉलर और लेखिका प्रियंका नारायण की यह आपबीती बहुत खतरनाक संकेत दे रही है ० कैसे यहाँ पढ़ने वाली गर्ल्स स्टूडेंट, स्कॉलर और महिला अध्यापिकाओं के बारें…

उत्तर प्रदेश में लवजिहाद पर बना कानून, कैबिनेट से अध्यादेश पास

–अतुल मोहन सिंह उत्तर प्रदेश में धर्मांतरण संबंधी प्रस्ताव को योगी कैबिनेट ने हरी झंडी दे दी है। मंगलवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की बैठक…

लव जिहाद : कानून एक बालिग स्त्री या पुरुष को अपना जीवन साथी चुनने का अधिकार देता है

“कानून एक बालिग स्त्री या पुरुष को अपना जीवन साथी चुनने का अधिकार देता है. उनके शांतिपूर्ण जीवन में कोई व्यक्ति या परिवार दखल नहीं दे सकता. कानून दो बालिग…

रेल-यात्रा को किताबों से जोड़ने वाले ए.एच. व्हीलर बुक स्टोर के लिए लॉकडाउन के दिन बेहद ख़राब साबित हुए हैं

– पवन करन रेल के सफ़र को किताबों, उपन्यासों और पत्र-पत्रिकाओं से जोड़ने वाले ए.एच. व्हीलर बुक स्टोर को अब 143 वर्ष पूरे हो रहे हैं। ए.एच. व्हीलर की स्थापना…

चुनौतियों और एनडीए के अंतर्कलह के बीच नीतीश के सिर चढ़ा कांटो भरा ताज

अखिलेश अखिल नीतीश कुमार ने बिहार में सातवीं बार मुख्यमंत्री के लिए पद और गोपनीयता की शपथ ले ली है। दूसरे नंबर पर तारकिशोर प्रसाद ने मंत्री के रूप में…

जयंती पर विशेष: आदिवासी जननायक, क्रांतिकारी, महान योद्धा बिरसा मुंडा

आज महान क्रांतिकारी और देश के नायक बिरसा मुंडा की जयंती है। वे मात्र 25 वर्ष की उम्र तक जीवित रहे लेकिन उसी आयु में उन्होंने अंग्रेज़ी हुकूमत की नींद…

आजादी के बाद भी अरुणा ने राष्ट्र और समाज के लिए बहुत से काम किये

एक अनोखा व्यक्तित्व — अरुणा आसफ अली @ एस के दत्ता 1942 के भारत छोडो आन्दोलन के दौरान जब सारे प्रमुख नेता गिरफ्तार किये जा चुके थे तब अरुणा आसफ…

आज हिन्दी कवि धूमिल की 84 वीं जयंती है

–चन्द्रेश्वर 09 नवंबर ,1936 को ज़िला बनारस के गाँव खेवली में पैदा हुए धूमिल हिन्दी में साठोत्तरी पीढ़ी के प्रतिनिधि कवि हैं | वे आज अगर हमारे बीच जीवित होते…

अरनव गोस्वामी को आज मुंबई हाईकोर्ट से भी कोई राहत नहीं मिली

–पंकज चतुर्वेदी अरनव गोस्वामी को आज मुंबई हाईकोर्ट से भी कोई राहत नहीं मिली। हाईकोर्ट की एक बेंच ने अरनव के वकील की ओर से पेश दोनों मांग यानी इस…

हिंदी »