• Sun. Aug 1st, 2021

Trending

Home

बिहार की बेटी रश्मि ने गोपालगंज का नाम किया रोशन

लखनऊ : यूं तो बिहार राज्य में इससे पहले भी रुपहले पर्दे पर अपनी पहचान स्थापित की है और यह …
Read More

सीएम आगमन पर मांगों को लेकर मिलेंगे छात्र

स्व० राजेश्वर सिंह जी के मूर्ति अनावरण कार्यक्रम को स्नातकोत्तर महाविद्यालय गाजीपुर के धरा-धाम पर होने वाला उत्तर प्रदेश सरकार …
Read More

विटामिन ए की खुराक पिलाकर बाल स्वास्थ्य पोषण माह का किया शुभारंभ

गाज़ीपुर।जिले में बाल स्वास्थ्य पोषण माह 28 जुलाई से शुरू हो चुका है। इसके अंतर्गत नौ माह से पाँच साल …
Read More

प्रेमचंद की रचनाएं भारत के गांवों का प्रतिनिधित्व करती हैं

दिलदारनगर(ग़ाज़ीपुर)। प्रेमचंद्र की 141वे जन्मतिथि के अवसर पर दिलदार नगर पंचायत स्थित जनार्दन ज्वाला के निवास पर एक विचार गोष्ठी …
Read More

कलेक्टर साब! यह एक वरिष्ठ पत्रकार की मौत भर नहीं है बल्कि आप के हेल्थ सिस्टम की भी मौत है..?

०आरोप : गाजीपुर में वरिष्ठ पत्रकार की जिला अस्पताल में लापरवाही से मौत ० डीएम ने बैठाई जांच, एडीएम ने …
Read More

साहित्यकार डॉ० विजयानन्द को मिला “हिंदी अकादमी शिक्षारत्न सम्मान”

गाजीपुर। विकास खण्ड मनिहारी के ग्राम बखरा निवासी साहित्यकार डॉ.विजयानन्द को उनकी बहुमुखी साहित्य सेवा एवं हिंदी अकादमी मुंबई के …
Read More

समाचारों की विश्वसनीयता ही होती है पत्रकार की पहचान

गाजीपुर। पत्रकार द्वारा लिखे गये या दिखाये गये समाचार की विश्वसनीयता ही उसकी पहचान होती है आज डिजिटल मीडिया के …
Read More

ब्रिगेड़ियर उस्मान : बंटवारे के समय पाकिस्तानी ‘आर्मी चीफ’ का पद तक ठुकरा दिया था ‘नौशेरा का यह शेर’..

माटी के लाल आज़मियों की तलाश में… ० पाकिस्तान ने उसके सिर पर 50 हजार का ईनाम रखा था. ०36 …
Read More

1942 में तरवां थाना फूंकने वाले कामरेड तेजबहादुर सिंह को ब्रितानी हुकूमत ने तीन बरस तक जंजीरों में जकड़े रखा..

माटी के लाल आजमगढ़ियों की तलाश में.. ० आजाद भारत में 1952 में मेंहनगर से पहले विधायक बने ० विधायक …
Read More

एक तवायफ़ को आजमगढ़ ने जिला पंचायत का चैयरमेन बना संगीत और कला के सम्मान को आसमान की ऊंचाई दी

माटी के लाल आजमगढ़ियों की तलाश में.. ० गायिका और नृत्यांगना कामेश्वरी बाई ने 7-8 बरस की उम्र में पैरों …
Read More
  


◆कंट्रोल रूम में खाने व खाद्य सामिग्री से संबंधित आने वाली कॉल पर हो तत्काल कार्यवाही, पंजीकृत श्रमिकों के खाते लिंक कराकर एक-दो दिन में भेज दी जाए राशि।

◆सभी जमातियों को कराया जाए होम क्वारन्टाइन, कोई भी होम क्वारन्टाइन का पालन न करे तो पुलिस के सहयोग से कराया जाए पालन।

अलीगढ़। लॉक डाउन को लेकर शासन के निर्देशों के क्रम में डीएम श्री चन्द्र भूषण सिंह ने आज फिर 1 बजे रोजाना की तरह समीक्षा बैठक की। कंट्रोल रूम की प्रभारी अधिकारी श्रीमती स्मृति गौतम ने कंट्रोल रूम पर आने वाली शिकायतों, नगर निगम से संबंधित शिकायतों और आईजीआरएस पर कोरोना व लॉक डाउन को लेकर प्रतिदिन प्राप्त हो रहीं शिकायतों के बारे में डीएम श्री सिंह को अवगत कराया।

समीक्षा बैठक में सबके साथ चर्चा करने के पश्चात डीएम श्री सिंह ने निर्देश दिए कि :-

1. डीएलसी एवं एलसी ने बताया कि 17000 लोगों के खाता संख्या है। परंतु खाते लिंक नहीं है, शासन के निर्देशों के क्रम में सभी 17000 श्रमिकों का खाता लिंक करने के आदेश दिए गए हैं जिसमें खाते को लिंक होने में समय लगा है। इस पर डीएम श्री सिंह ने निर्देश दिया कि जिनके खाते लिंक हैं उनको तत्काल धनराशि भेज दी जाए तथा जिनके खाते लिंक नहीं है उसके लिए कार्यालय के बाबू को सुपरवाइजर के रूप में तैनात कर उसको 10 कंप्यूटर ऑपरेटर उपलब्ध करा दिए जाएं। 10 कंप्यूटर ऑपरेटर लगाकर एक-दो दिन में खाते को लिंक कराने की कार्यवाही पूर्ण की जाए और खाते लिंक होने के बाद तत्काल उनके खाते में धनराशि हस्तांतरित कर दी जाए।*

2. कंट्रोल रूम पर आने वाली शिकायतों के निस्तारण में प्रभारी अधिकारी कंट्रोल रूम श्रीमती स्मृति गौतम ने बताया की निस्तारण में सबसे ज्यादा शिकायतें एसडीएम कोल व तहसीलदार कोल के थाना क्षेत्र की हैं जिनके वेरिफिकेशन करने पर शिकायतकर्ता का कहना है कि उसके पास खाद्य सामिग्री नहीं पहुंची है। जिसमें डीएम ने असंतोष व्यक्त किया और एसडीएम कोल और तहसीलदार कोल को सख्त निर्देश दिए कि कंट्रोल रूम से जो भी शिकायतें आ रही हैं उनका शत-प्रतिशत निस्तारण प्रतिदिन समय से कर दिया जाए।

3. नगर निगम को सख्त निर्देश दिए कि नगर में साफ-सफाई व पशुओं के शव पड़े हैं उनको तत्काल प्रभाव से हटाया जाए और सफाई कराई जाए।

4. पीडी डीआरडीए श्री सचिन को निर्देश दिए कि शासन के निर्देशों के क्रम में ग्रामीण क्षेत्रों में जो गरीब तबके के लोग हैं उनके भरण-पोषण के लिए ग्राम विकास अधिकारी के माध्यम से समस्त कार्यवाही कराई जाए।

5-एडीएम वित्त श्री विधान जायसवाल को निर्देश दिए कि कम्युनिटी किचन का डाटा मोबाइल एप्लीकेशन पर प्रतिदिन अपडेट किया जाए, इसमें किसी भी प्रकार की लापरवाही न की जाए।

6-आइजीआरएस पर कोरोना से संबंधित शिकायतों के संबंध में प्रभारी श्री पीयूष साराभाई ने अवगत कराया कि आज मात्र 8 डिफॉल्टर शिकायतें आई थी जो मनरेगा के कार्ड धारकों को ₹1000 और राशन से संबंधित हैं। जिन के निस्तारण के लिए डीएम श्री सिंह ने पीडी डीआरडीए, एडीएम प्रशासन तथा नगर निगम को निर्देशित किया।

7-सीएमओ डॉ भानु प्रताप सिंह कल्याणी को निर्देश दिए गए कि क्लोरोक्वीन की दवा सरकारी वाहन भेजकर लखनऊ से कल तक उपलब्ध करवा ली जाए। इस पर ड्रग इंस्पेक्टर श्री हेमेंद्र चौधरी ने बताया कि क्लोरोक्वीन की दवा बाजार में उपलब्ध है और उसको क्रय किया जा सकता है। जिस पर डीएम ने सीएमओ को निर्देश दिए कि ड्रग इंस्पेक्टर से समन्वय स्थापित कर आज ही 5000 पत्तियां क्लोरोक्वीन की बाजार से क्रय कर ली जाएं तथा सभी अस्पतालों में उपलब्ध करा दी जाएं।

8-इसके साथ ही डीएम ने निर्देश दिए कि चांदपुर मिर्जा में जो लोग क्वॉरेंटाइन का पालन नहीं कर रहे हैं उन पर कड़ी कार्यवाही के लिए थानाध्यक्ष अकराबाद के माध्यम से सबको घरों के अंदर कराकर होम इसोलेशन के पम्पलेट चिपका दिया जाए तथा जितने भी जमाती हैं और जिनकी जांच रिपोर्ट अब तक नेगेटिव आई है उनको होम क्वॉरेंटाइन कराया जाए तथा उन्हें क्लोरोक्वीन की दवा आवश्यक रूप से खिलाई जाए। उनको मास्क व सैनिटाइजर उपलब्ध कराए जाएं।

9-डीएम ने जिला मलेरिया अधिकारी डॉ राहुल कुलश्रेष्ठ को निर्देश दिए कि जो बॉर्डर से सटे हुए गांव हैं उनमें अपनी टीम से मुनादी के माध्यम से जागरूक तथा क्लोरोक्वीन की दवा व बचाव के लिए जरूरतमंद को खाद्य सामग्री के बारे में अवगत कराया जाए। जनपद के सभी बॉर्डर पर लोगों की मेडिकल टीम द्वारा सघनता से जांच की जाए और उनको मास्क व सैनिटाइज कराया जाए।

0Shares

लॉक डाउन-डीएम अपील

प्रिय प्रधान जी,
जैसा कि आप अवगत ही हैं कि इस समय कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए भारतवर्ष में दिनांक 14-04- 2020 तक लॉक डाउन घोषित किया गया है। इस दौरान भारी संख्या में दिल्ली, गाजियाबाद, नोएडा व अन्य स्थानों से काम करने वाले लोग आपके ग्राम में आए हुए हैं। मुझे खुशी है कि आपके द्वारा यह अच्छा कार्य किया गया है तथा उन्हें होम क्वॉरेंटाइन कराया गया है यह अत्यंत आवश्यक है कि वह सभी अपने-अपने घरों में तथा अनावश्यक रूप से घरों से बाहर न निकलें। आपके द्वारा बाहर से आए हुए जिन लोगों को क्वॉरेंटाइन किया गया है उनकी सूची बनाकर अपने उप जिलाधिकारी तथा खंड विकास अधिकारी को उपलब्ध करा दें। उपरोक्त व्यक्तियों में से किसी को भी खासी बुखार तथा गले में दर्द की शिकायत के लक्षण प्रतीत होते हैं तो तत्काल अपने नजदीकी पीएचसी/सीएचसी पर उपलब्ध डॉक्टर को अवगत करा दें जिससे वह इनका समुचित उपचार करा सकें।

जिलाधिकारी का प्रधानों के नाम पत्र

यह भी आवश्यक है कि आपके ग्राम में रहने वाले ऐसे नागरिक जो साधन विहीन है तथा जिनके पास खाने की पर्याप्त सामग्री उपलब्ध नहीं है, उनकी सूची बनाकर तथा उसे अपने हस्ताक्षर से सत्यापित कर संबंधित खंड विकास अधिकारी को उपलब्ध करा दें जिससे उनको खाने की सामग्री उपलब्ध करा सकें तथा उन्हें उप्र. शासन की लाभार्थी परक योजना से लाभान्वित किया जा सके। आपने अपने समय पर प्रभावशाली कार्य किए हैं। आशा है कि इस समय कोरोना जैसी महामारी को रोकने में पूरी लगन एवं मेहनत से सहयोग प्रदान करेंगे।

0Shares

यह विनोद तिवारी का बच्चा है। इतना छोटा बच्चा समझ नहीं पा रहा है कि मेरी माँ क्यों रो रही है। उसे नहीं पता कि उसे क्या करना चाहिए?

32 साल का तिवारी दिल्ली की नवीन विहार कॉलोनी में अपनी पत्नी व दो बच्चों के किराए के मकान में रहता था। बिस्कुट व कुरकुरे आदि सामान की सेल्समैनी करके अपने परिवार का भरण पोषण कर रहा था।
लॉकडाउन के बाद काम बंद होने से आय का साधन समाप्त हुआ तो विनोद तिवारी शुक्रवार की देर रात्रि पत्नी व दो बच्चों को मोपेड पर बिठाकर यूपी के सिद्धार्थनगर घर के लिए चल पड़ा। अलीगढ़ के पास उसकी तबीयत बिगड़ी। वह मर गया।
न तो उसे मरने का शौक रहा होगा, न यह शौक रहा होगा कि गांव में जाकर कोरोना फैलाएं। कैंसर का इलाज करा चुका व्यक्ति दिल्ली में भूख से परिवार के मर जाने की नौबत देखकर भागा होगा और आधे रास्ते में मर गया।

कहानी यहीं खत्म नहीं होती। उसके शव को कोई पहुँचवाने वाला नहीं था। अधिकारियों ने कहा कि यहीं जो करना हो कर दो। देर तक बच्चो को शव के पास बैठे देख एक मुस्लिम सब इंस्पेक्टर को तरस आई। उसने 15 हजार रुपये खुद देकर गाड़ी तय की।

कहानी आगे और भी है। इस कर्फ्यू में जो शव ले जाने का साहस दिखा पाए, वह दोनों भी नदीम और छोटे नाम वाले थे।
【सत्येंद्र ps】सोशल मीडिया से

0Shares
डीजल व पेट्रोल में मिलावट का खेल उजागर होने के बाद गुरूवार को भी मेरठ जिले के पेट्रोल पंपों पर ताबड़तोड़ छापामारी की गई। पिछले तीन दिन में संयुक्त टीमों ने नौ पेट्रोल पंपों पर घटतौली और मशीन की टेंपरिंग की जांच करने के साथ नमूने भरे। इस दौरान एक पेट्रोल पंप पर घटतौली पकड़ी गई। नमूनों को जांच के लिए विधि विज्ञान प्रयोगशाला भेज दिया गया।
वहीं गुरूवार को नकली पेट्रोल डीजल के मामले में जिला प्रशासन  ने बड़ी कार्रवाई करते हुए केरोसिन ऑयल डिपो पर छापेमारी की। जिलाधिकारी ने तीन मजिस्ट्रेट नियुक्त कर तीनों ऑयल डिपो की जांच के लिए भेजे। चंद्रप्रकाश विजय कुमार सरदार सिंह, प्रेमचंद के डिपो समेत टीम ने तीन डिपो पर छापा मारा और तेल के नमूने भरे। इसके अलावा टीम ने शहर के मवाना में जेपी कामिल फ्यूल प्वाइंट, मवाना खुर्द में अग्रवाल फिलिंग प्वाइंट मवाना पर भी छापा मारा।
0Shares

फिट इंडिया अभियान के तहत राष्ट्रीय खेल दिवस पर गुरुवार को क्रॉस कंट्री दौड़ का आयोजन किया गया। जिला प्रशासन व खेल विभाग के तत्वावधान में जिलाधिकारी आवास से दौड़ की शुरुआत हुई, इसके बाद यह दौड़ विभिन्न प्रमुख मार्गों से होते हुए जिला स्टेडियम में आकर समाप्त हुई।

खेल निदेशालय के निर्देशानुसार सुबह 6 बजे दौड़ की शुरुआत हुई। अतिथि के तौर पर मौजूद एडीएम सिटी राकेश मालपानी, सिटी मजिस्ट्रेट विनीत कुमार सिंह व क्षेत्रिय खेल अधिकारी अनिल कुमार ने हरी झंडी देकर दौड़ की शुरुआत की। इसके बाद एथलीट जिलाधिकारी कार्यालय, मैरिस रोड, केला नगर चौराहा समेत विभिन्न प्रमुख मार्गों से होते हुए जिला स्टेडियम पहुंचे। बालक एवं बालिका वर्ग में कुल 70 एथलीट ने हिस्सा लिया। खेल अधिकारियों ने विजेताओं को सम्मानित किया। इस दौरान उप खेल अधिकारी, विजय सिंह, शमशाद निसाद आजमी समेत बड़ी संख्या में खेल अधिकारी व खिलाड़ी मौजूद रहे।

यह रहे दौड़ के विजेता :

बालक वर्ग में किशोर प्रथम, नीरज द्वितीय व शेर सिंह तृतीय रहे। सांत्वना पुरसकार चंद्रभान, शिवेंद्र व अनुपम को मिलाद्ध। वहीं बालिका वर्ग में बबिता प्रथम, भारती द्वितीय व मोनिका तृतीय रही। इसके साथ चंचल, प्रिया व नैना को सांत्वना पुरस्कार देकर सम्मानित किया गया।

कार्यक्रम के दौरान दिखी प्रशासन की लापरवाही

क्रॉस कंट्री दौड़ के दौरान प्रशासन की जबरदस्त लापरवाही नजर आई। प्रशासन की ओर से निर्देश जारी किए गए थे कि हर चौराहे पर यातायात व पुलिस कर्मियों की तैनाती रहेगी। जिससे कि दौड़ के दौरान वह वाहनों को रोककर धावकों के लिए रास्ता खाली करा सके। इसके साथ ही नगर निगम को निर्देश दिए गए थे कि जिस रूट से खिलाड़ी गुजरेंगे उस पर चूना डालकर उसे हाईलाइट किया जाए। लेकिन किसी भी मार्ग पर इस तरह की कोई व्यवस्था नजर नहीं आई। बस स्टेडियम के सामने कुछ पुलिस कर्मी मौजूद रहे। एंबुलेंस भी पूरी रेस खत्म होने बाद जिला स्टेडियम में पहुंची। खेल अधिकारी अनिल कुमार ने बताया कि सभी विभागों को व्यवस्था कराने के लिए पत्र भेजा गया था।

0Shares
0Shares
हिंदी »