• Thu. Oct 21st, 2021

culture

  • Home
  • केदारनाथ सिंह स्मृति सम्मान 2021 के लिए रचनाएं/नाम आमंत्रित

केदारनाथ सिंह स्मृति सम्मान 2021 के लिए रचनाएं/नाम आमंत्रित

हिंदी की साहित्यिक पत्रिका ‘साखी’ ने कवि केदारनाथ सिंह की याद में वर्ष 2021 से दो युवा कवियों को हर साल ‘केदारनाथ सिंह स्मृति सम्मान’ देने का निर्णय लिया है।…

कृष्ण और राधा का पुनर्मिलन !

  सौ वर्षों के अंतराल के बाद दो उत्कट प्रेमियों की उस छोटी-सी भेंट में न जाने कितने आंसू बहे होंगे। भूले बिसरी कितनी स्मृतियां जीवंत हो उठी होंगी। कितनी…

उपलब्धि के लिए उपलब्ध होना प्राथमिक योग्यता है : स्वामी ओमा दी अक्क

आप उपलब्धियां तो चाहते हैं लेकिन उपलब्धियों के साथ उपलब्ध नहीं होते। सब कुछ आपको उपलब्ध होना चाहिए, लेकिन आप इच्छित उपलब्धियों के साथ कभी उपलब्ध नहीं होते। आपको सिर्फ़…

पूरब की कहानी-4 : बंगाल जो आज सोचता है, बाकी हिन्दुस्तान एक दिन बाद सोचता है

बंगाल संस्कृतियों की संगम और विद्रोह का पालना था.. @ अरविंद सिंह #बंगाल #पूरब_की_जवानी_पूरब_का_पानी_पूरब_की_कहानी_भाग-4 23 जून 1757 को प्लासी के मैदान में एक तरफ बंगाल के नवाब सिराजुद्दौला की फौज…

पूरबिया कहानी : गरीबी के हिन्द महासागर को पाटने के लिए पूरब की विवाहिता स्त्रियों ने विधवा सा जीवन स्वीकार कर लिया..

०पूरबियों के लिए अपने देश में ही परदेस बनते रहें हैं..? @ अरविंद सिंह #विवाहिता_विधवा #पूरब_की_जवानी_पूरब_का_पानी_पूरब_की_कहानी भाग-4} तकनीक और यातायात के अभाव ने पूरब के जीवन पर कैसा असर डाला…

पूरबिया कहानी-काला जादू कुछ और नहीं, बंगाल के स्त्री सौन्दर्य का मोहपाश और पूरबिया स्त्री-मन का भय था..!

@ अरविंद सिंह {पूरब की जवानी- पूरब का पानी- पूरब की कहानी- भाग-3} “रेलिया ना बैरी, जहजिया ना बैरी, इहे पैइसवा बैरी ना.. देसवा-देसवा भरमाए इहे पैइसवा बैरी ना..! “…

पूरबिया कहानी : बंगाल का काला जादू कुछ और नहीं, भोजपुरी पट्टी के स्त्री-मन का भय था..!

तब कोई स्त्री भरी जवानी में वैधव्य जीवन जीने पर विवश नहीं होगी….और नहीं उसके लिए रेलिया बैरन होगी.. {पूरब की जवानी- पूरब का पानी- पूरब की कहानी- भाग-2} @…

धरती पर स्वर्ग यदि कश्मीर में है तो धरती पर देवताओं का निवास मुन्नार में है..

(तीन बरस पहले आज के दिन, एक यात्रा वृतांत- अरविंद सिंह #कोचीन_से_मुन्नार_वाया_सड़क_मार्ग(#मुन्नार-4) ◆धरती पर अगर कहीं स्वर्ग है तो कश्मीर में उसी तरह से धरती पर देवताओं का बसेरा अगर…

हिंसा उत्साह की आदिम अभिव्यक्ति है

“ स्वामी ओमा द अक्क निःसन्देह! बंगाल में चुनाव पश्चात हो रही हिंसा दुःखद और निंदनीय है…तथा राज्य सरकार को चाहिए कि वह इसमें लिप्त दोषियों को चिन्हित करें और…

झाँकी हिंदुस्तान की यहाँ का राजा बेसुध बैठा बनी है जन के जान की

सैड पैरोडी ————— आओ बच्चों तुम्हे दिखाएं झाँकी हिंदुस्तान की यहाँ का राजा बेसुध बैठा बनी है जन के जान की वन्दे मातरम वन्दे मातरम! हाय! महामारी ये कैसी भारत…

हिंदी »