• Thu. Oct 21st, 2021

17 बरस पहले जिस संगठन ने टाउन एरिया की उठायी थी मांग, उसने इसके विकास का खींचा खांका..

Byadmin

Sep 13, 2021

 

17 बरस पहले जिस एक स्थान से यह कारवां चला था, 17 बरस बाद एक बार फिर उसी स्थल पर, अपने पुराने साथियों और बुजुर्गों के संघर्ष और बुलंद इरादों को याद किया जा रहा था. समय की इस धारा पर कुछ साथी दिवंगत हो चले थें, उन्हें श्रद्धांजलि दी की गयीं और आने वाले दिनों में उन्हें भव्य कार्यक्रम करके उनकी स्मृतियों को आज की पीढ़ियों से साझा करने के वायदे भी किए गएं.

 

०जहानागंज टाउन एरिया विकास समिति की बैठक संपन्न
यह एक ऐतिहासिक बैठक थी. जहाँ इतिहास को बनाने वाली पीढ़ी थी तो दूसरे उस इतिहास को सुनने और प्रेरणा लेने पीढ़ी. सच कहें तो यह अतीत का वर्तमान से मिलन था. जहानागंज पर्णकुटी के सामने मोदी फोटो कापियर्स के प्रथम तल के सभागार में सीढ़ियां चढ़ कर केवल नौजवान ही नहीं, बुजुर्ग भी पहुंचे थे. इस अंचल और क्षेत्र के बौद्धिक और वैचारिक प्रतिनिधियों का भी संगम हो रहा था. समय भी तय था दोपहर 3 :30 बजे, विषय और संदर्भ भी विदित था लेकिन आने वालों विचारों से सभी अनभिज्ञ थे.


17 बरस पहले जिस एक स्थान से यह कारवां चला था, 17 बरस बाद एक बार फिर उसी स्थल पर, अपने पुराने साथियों और बुजुर्गों के संघर्ष और बुलंद इरादों को याद किया जा रहा था. समय की इस धारा पर कुछ साथी दिवंगत हो चले थें, उन्हें श्रद्धांजलि दी की गयीं और आने वाले दिनों में उन्हें भव्य कार्यक्रम करके उनकी स्मृतियों को आज की पीढ़ियों से साझा करने के वायदे भी किए गएं.
‘जहानागंज टाउन एरिया विकास संघर्ष समिति’ का गठन भी फरवरी-2004 में तब हुआ था- जब रामपुर के एक युवा पत्रकार अरविंद सिंह ने इस समस्या पर गंभीर चिंतन और लोगों से विमर्श स्थापित किया था कि- आखिर जब हमे बिजली बिल, निबंधन शुल्क, और सभी प्रकार के कर टाउन के बराबर भुगतान करने पड़ते हैं तो फिर हमें ग्राम पंचायत की सुविधाएं ही क्यों दी जा रही हैं. इस मुद्दे को लेकर जगह -जगह परिचर्चा और विमर्श हुआ था. कुछ लोग एकत्रित हुए और फिर इसी स्थल पर 17 बरस पहले एक जोरदार बैठक में यह तय हुआ कि- जब हमें टाउन के बराबर टैक्स देने हैं तो फिर हमें सुविधाएं भी टाउन के बराबर ही चाहिए. एक आंदोलन चल पड़ा. लोग आते गयें और एक कारवां बन गया. तब के अखबारों में भी यह मुद्दा खुब उठा, राज्यपाल और मुख्यमंत्री को पत्राचार हुआ. परिणाम स्वरूप बरस 2019 में सरकार द्वारा जहानागंज टाउन एरिया की स्थापना की घोषणा हुई. यह इस समिति के सपनों के पुरा होने का समय भर नहीं था, बल्कि उस विश्वास को और गहरा करने वाला भी था कि- निस्वार्थ भाव, त्याग और समर्पण से उठाया गया हर कदम एक दिन फलीभूत अवश्य होता है. सच्चे मन से एक सामुदायिक प्रयास ने जनता को, उसके जनमत को मजबूत किया है. जहानांगज की वह जनता जिसने इस समिति के मांगों और विचारों से अपने को तब जोड़ा था, उसके उस सहयोग और समर्थन का आभार व्यक्त किया गया.
कार्यक्रम की शुरुआत समिति के अध्यक्ष डॉ०अरविंद सिंह ने समिति के 17 बरस पहले के उस संघर्ष और समर्पण को याद करते हुए किया, जिसे बहुत से साथियों ने भोगा था, उस अपमान को भी झेला था, जिसमें साथियों का परिहास और मजाक उड़ाया गया था. इस सभागार में बैठे उन नौजवानों से, जो 17 बरस पहले किशोर या बच्चे थें, को इस मांग को लेकर किए गए संघर्ष और कठोर परिस्थितियों से रूबरू कराया. कैप्टन सुब्बा यादव, कैप्टन देवराज, डा० लालमन यादव, डा० गौरीशंकर जायसवाल, परमानन्द जायसवाल की स्मृतियों को याद किया गया, जिनके मार्गदर्शन में यह आंदोलन गति पकड़ा और आज ये साथी हमारे बीच सशरीर नहीं है. 17 बरस में गंगा यमुना और तमसा में कितना पानी बह गया. लेकिन समिति ने अपने उद्देश्यों को नहीं बदला परिणामस्वरूप आज सफलता आप के साथ.
अतीत की बातों के साथ वर्तमान और भविष्य की योजनाओं को लेकर भी परिचर्चा हुई. यह तय हुआ का जिस सपनों को लेकर हम 17 बरस पहले चलें थें. स्वच्छ और सुन्दर नगर, विकसित और सुविधा युक्त नगर का विकास किया जाएगा. नागरिक स़ंस्थाओं को मजबूत किया जाएगा. नगर का प्राकृतिक ढंग से विकास किया जाएगा. नगर पंचायत के अधिकारी और कर्मचारियों को जवाबदेह और जनमुखी बनाया जाएगा. नागरिक सुविधाओं को सुदृढ़ और पारदर्शी बनाया जाएगा.
इस अवसर पर लोगों ने अपने विचार रखें.
जहानागंज बाजार के विमल गुप्ता ने कहा कि- नगर पंचायत में परिवार रजिस्टर की नकल के लिए लोगों को परेशानी झेलनी पड़ रही है. यह ठीक नहीं है. यहाँ अधिकारी कर्मचारी मनमानी करते हैं. जनहित के कार्य प्रभावित हो रहें हैं. बागीचे के युनूस ने कहा- हमारे मुस्लिम बस्ती में नाली की साफ सफाई नहीं हो पा रही है. जिससे गंदगी का अंबार होता जा रहा है.
चकसहदरिया के प्रधान रहे और समिति के संगठन मंत्री रविन्द्र राय जलनिकासी की समस्या उठाते हुए कहा कि- जहानागंज की सबसे बड़ी समस्या जलनिकासी की है. इसके लिए नियोजित ढंग से प्लान बनाना चाहिए.
वरिष्ठ पत्रकार और समिति के सह संयोजक- कमलेश राय ने कहा कि- कुटुबं रजिस्टर की नकल और जल- जमाव की समस्या एक प्रमुख समस्या है. चिकित्सक डॉ राजेश त्रिपाठी ने कहा कि- टाउन की सबसे बड़ी समस्या बिजली की है. हमें अपने अधिकारों को जानना होगा और इस समिति के बैनर तले खड़े होकर आवाज उठानी होगी. विश्वनाथ गुप्ता ने कहा कि- सड़क से सटे और आबादी के बीच से 33000 वाट की बिजली के तार दौड़ाना खतरनाक स्थिति होगी. युवा रवि प्रकाश सिंह ने अपने कविताओं के माध्यम से लोगो प्रेरित किया. जबकि समिति के युथ- विंग्स के अध्यक्ष अभिषेक सिंह नीरज कहा कि- संगठन की शक्ति से ही टाउन का निर्माण संभव है. इस नगर पंचायत से जुड़ी समस्याओं का हमारा युथ विंग्स निराकरण करेगा. समिति के उपाध्यक्ष और शिक्षा जगत के जाने -माने प्रबंधक विजय बहादुर सिंह ने कहा कि- हमें पहले मूलभूत समस्याओं परिवार रजिस्टर की नकल और जलनिकासी पर ध्यान देना होगा. समिति के मीडिया प्रभारी और मानस वक्ता- डॉ मंगला सिंह ने कहा कि- हमने जो 17 बरस पहले लड़ाई शुरू किया था उसका परिणाम अब आने लगा है. हमें हमारे संगठन की शक्ति और बढ़ानी होगी.
आखिर में अध्यक्षीय संबोधन करते हुए स्वतंत्रता संग्राम सेनानी और पूर्व विधायक स्व०विश्वनाथ सिंह के पुत्र- जयप्रकाश सिंह ने कहा कि- यह बैठक अपने सार्थक उद्देश्यों को लेकर सफल रही है. टाउन एरिया से जुड़ी प्रमुख समस्याओं जैसे कुटुबं रजिस्टर की नकल, जलनिकासी, साफ – सफाई के साथ निर्माण और विकास के कार्यों को भी बढ़ाया जाए.
कार्यक्रम का संयोजन और संचालन समिति के अध्यक्ष डॉ अरविंद सिंह ने कहाकि हम लोगों ने 6 सिंतबर को नोडल अधिकारी और प्रमुख सचिव के ० रविन्द्र नायक के समक्ष जिन पांच मांगे/ प्रस्ताव को रखा गया था- जिसमें प्रमुख रूप से- 1-जहानागंज पर्णकुटी पर धर्मशाला, पुस्तकालय का निर्माण, तालाब का सुंदरीकरण, 2- जहानागंज मुस्लिम बस्ती बागीचे में सार्वजनिक शौचालय और स्नानागार और वाचनालय का निर्माण.3- रामपुर में सभी सुविधाओं से युक्त बारात घर का निर्माण, 4- मवेशी पर शहीद पार्क कि निर्माण, 5- रामपुर- सठियांव तिराहे पर सार्वजनिक शौचालय और स्नानागार के निर्माण की थी.
जिस पर त्वरित कार्यवाही करते हुए नोडल अधिकारी ने मुख्य विकास अधिकारी को आदेश दिया. इस आदेश के क्रम में सीडीओ ने एडीएम प्रशासन को निर्माण कार्यों पर कार्रवाई तथा 10 दिन के भीतर उसकी आख्या भी मांगी है.
इस अवसर दिलशाद, रवि अभ्युदय, पंकज सिंह, सोनू सिंह, सिद्धार्थ चौरसिया आदि लोग उपस्थित थे

0Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

हिंदी »