EVM का मामला इस बार फिर सुप्रीम कोर्ट पंहुचा, बैलेट पेपर से वोटिंग करने की मांग

सुप्रीम कोर्ट में एक बार फिर इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन ( EVM) का मामला पहुंचा। ऐसे में एक बार फिर देश में चुनावों को बैलेट पेपर की जगह ईवीएम के जरिए कराने को चुनौती देने वाली याचिका पर सुनवाई को लेकर सुप्रीम कोर्ट तैयार है। बुधवार को कोर्ट में सुनवाई के दौरान इस याचिका को सूचीबद्ध किया गया है। ये याचिका जन प्रतिनिधित्व अधिनियम के एक प्रावधान जिसमें ईवीएम के इस्तेमाल की इजाजत दी गई है के संवैधानिक वैधता को चुनौती देता है। इस याचिका को वकील एमएल शर्मा ने दायर किया है।

EC rejects BJP charge about EVM malfunction

सीजेआई एन वी रमना ने कहा क्या अब उनको ईवीएम मशीन से दिक्कत है? शर्मा ने कहा है की बैलेट पेपर से चुनाव होने चाहिए। हम कानून के लिहाज से बात कर रहे है। उनकी यह मांग है की विधानसभा चुनाव से पहले सुनवाई हो जानी चाहिए इस पर CJI सीजेआई ने कहा वह देखेंगे। शर्मा ने अपनी याचिका में जन प्रतिनिधित्व अधिनियम की धारा 61(a) को चुनौती भी दी है। जिसमे बैलेट पेपर की जगह EVM ईवीएम मशीन से वोट कराये जाने का प्रावधान किया गया है। शर्मा की याचिका के आधार पर इस प्रावधान को अभी संसद में मंजूरी नहीं मिली है। उनका कहना है ईवीएम मशीन के जरिये अभी तक कराये गए सारे चुनाव अवैध है और सभी जगह बैलेट के जरिये फिर से मतदान कराया जाना चाहिए। इस पर CJI ने कहा की वो देखेंगे।

0Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

हिंदी »